चेतन भगत से चिढ़ क्यूँ ? अब वो दिल्ली यूनिवर्सिटी के कोर्स का हिस्सा हैं!

रचनाकार- गौरव निगम 

साहित्यिक समाज, खासकर अंग्रेजी और हिंदी पल्प फिक्शन से जुड़े लोगो में एक बार फिर से हलचल मच गई हैI

अंग्रेजी में पल्प फिक्शन लिखने वाले चेतन भगत की किताब five point someone दिल्ली विश्वविद्यालय के अंग्रेजी के पाठयक्रम में शामिल कर, अगले सत्र से पढाई जाएगीI चेतन भगत खुद IIT, दिल्ली के पूर्व छात्र रह चुके हैं और इस किताब में Five Point Someone: What not to do at IIT! की टैगलाइन के साथ इस किताब के अन्दर उन्होंने यह डिस्क्लेमर दिया हुआ है कि “This is not a book to teach you how to get into IIT or even how to live in college. In fact, it describes how screwed up things can get if you don’t think straight.”

यह नावेल IIT में पढने वाले तीन दोस्तों के बीच की कहानी है, जहाँ वो अपने सपने, करियर और रिलेशनशिप के बीच चक्करघिन्नी बने हुए हैंI

वही किताब दिल्ली यूनिवर्सिटी के सिलेबस में शामिल हो रही है, और परंपरानुसार कुछ लोगो के गले से यह बात नीचे नहीं उतर रही हैI

अंग्रेजी के अलावा हिंदी पल्प फिक्शन लिखने पढने वालों का एक बड़ा तबका IIT, दिल्ली और IIM, अहमदाबाद के पूर्व छात्र रहे चेतन भगत को लेखक मानने से ही इंकार करता रहा हैI उनकी नज़र में चेतन भगत बॉलीवुड सरीखी कहानियों को पन्नो पर उतार कर उन्हें किताब का नाम दे देते हैं, किताबों में फ़ास्ट फ़ूड सरीखी लज्ज़त पेश कर रहे हैं.

दरअसल, चेतन भगत ने लेखक बनने की ललक रखने वाले लोगो को यह सिखाया है कि लिखने के लिए तथाकथित तौर पर उच्च कोटि का साहित्य और भाषाई ज्ञान किताब में उडेलना ज़रूरी नहींI सरल, आम बोलचाल की भाषा में भी रचनाएँ की जा सकती हैं और उनकी बेहतर मार्केटिंग के सहारे अच्छी खासी ख्याति और पैसे कमाए जा सकते हैंI

एक वक़्त था जब लेखक का खुद की मार्केटिंग करना उसकी इमेज के साथ ‘फिट’ नहीं बैठता था, लेखक का काम सिर्फ लिखना या किताब के प्रोडक्शन लेआउट से जुड़े कामों तक सीमित था और किताब की प्रमोशन का काम प्रकाशक की सरदर्दी हुआ करती थीI मगर, आज के दौर में छोटा, बड़ा हर लेखक अपनी किताब की प्रमोशन के लिए वो सारे जतन कर रहा है जो कोई MNC अपने प्रोडक्ट को बाज़ार में बेचने के लिए करती हैI

अब हर नए पुराने लेखक की अपनी वेबसाइट होती है, हर किताब का अपना मार्केटिंग प्लान होता है और प्रकाशक भी कई बार उस लेखक की ही रचना छापने का जोखिम उठाना चाहते हैं जिसकी अपनी पर्सनल फैन फॉलोइंग  सोशल मीडिया जैसी जगहों पर बनी हुई होI

चेतन भगत ने अब तक कुल नौ किताबें लिखी हैं जिसमे से फिक्शन की श्रेणी में सात नावेल Five Point Someone (2004), One Night @ the Call Center (2005), The 3 Mistakes of My Life (2008), 2 States (2009), Revolution 2020 (2011), Half Girlfriend (2014) and One Indian Girl (2016) लिखे हैं और दो What Young India Wants (2012) and Making India Awesome(2015) नॉन फिक्शन श्रेणी की रचनाएँ हैंI

चेतन भगत के सात नॉवेल में से चार पर – Five Point Someone (2004) पर मिस्टर परफेक्शनिस्ट आमिर खान जैसे सितारे से जड़ी 3 idiots,One Night @ the Call Center (2005) पर सलमान खान जैसे सुपरस्टार की Hello, The 3 Mistakes of My Life (2008) पर युवा पीढ़ी के सबसे शानदार अभिनेताओं में से एक राजकुमार राव और सुशांत सिंह राजपूत की Kai Po Che!, 2 States (2009) अर्जुन कपूर और अलिया भट्ट की जोड़ी की 2 states बन चुकी है और यह सब की सब बॉक्स ऑफिस पर सुपरहिट रही हैंI इसके अलावा Half Girlfriend (2014) पर इसी नाम से अर्जुन कपूर और श्रद्धा कपूर की जोड़ी की नयी फिल्म 19 मई, 2017 को रिलीज हो रही है जिसके youtube ऑफिसियल ट्रेलर को यह लिखे जाने तक 24 मिलियन व्यूज मिल चुके हैंI

Five Point Someone हिंदी के अलावा तमिल में भी NANBAN के नाम से बन चुकी है, ‘EVAM’ नामक थियेटर ग्रुप इसे नाटक में रूपांतरित कर देश भर में पेश कर चुका हैI इसके अलावा यह भी सुनने में आ रहा है इसकी दुनिया भर में अब तक 10 मिलियन प्रतियाँ बिक चुकी हैं और इस कहानी में चीन और हॉलीवुड तक के निर्माता प्रारंभिक स्तर की दिलचस्पी दिखा चुके हैंI

चेतन भगत अपने दौर के सबसे सफल (भले ही सर्वप्रिय न हों) लेखक हैं और उनकी सफलता और कमाई, कईयों के लिए रश्क़ का मुद्दा हैI वह किताबों के अलावा फिल्म राइट्स, अख़बारों में लेखन, टीवी शोज, स्पीच से भी पैसे कमा रहे हैं और फ़िलहाल उनका रुकने का कोई इरादा नहीं दिखता हैI

यूनिवर्सिटी स्तर के कोर्स में शामिल होकर चेतन भगत की किताबों ने एक और पड़ाव पार किया हैI

चेतन भगत ने अपनी नौ किताबों के सदके जो पाया है वो कई लोग नब्बे किताबें लिखकर भी नहीं पा सके हैं, ऐसे में  चेतन भगत के नावेल को यूनिवर्सिटी सिलेबस में शामिल होने पर त्योंरियां तानने का कोई औचित्य नहीं बनताI

चेतन भगत के लेखन को पसंद करना या न करना हर किसी की अपनी व्यक्तिगत पसंद का मामला हो सकता है  है पर इस बात से कौन इनकार कर पायेगा कि चेतन भगत की किताबों ने पल्प फिक्शन और उसके मार्केटिंग के तौर तरीकों को आज पूरी तरह से बदल कर रख दिया हैI

अन्य कहानियांलघुकथाएं, साहित्य चर्चा  पढने के लिए क्लिक करें।

Comments

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *